रचना चोरों की शामत

Wednesday, 15 February 2017

वाह रे सपूत

माँ बेटे   की पेंटिंग के लिए चित्र परिणाम
रुक्मिणी देवी अपने ६ माह के पोते को गोद में लेकर बहला रही थी कि अचानक खाँसी का दौरा शुरू हो गया और वो बेदम होने लगी. आवाज़ सुनकर उनका बेटा विनय वहाँ आ गया और चिंतातुर स्वर में बोला-

“माँ, लगता है तुम्हारी खाँसी बहुत बढ़ गई है”.

सुनकर रुक्मिणी देवी की बुझी-बुझी आँखों में यह सोचकर चमक आ गई कि बेटे को आखिर मेरी सुध आ ही गई, मुश्किल से खाँसी रुकी तो बोली-

  “हाँ बेटे, तुम देख ही रहे हो न तुमसे कितनी बार तो डॉक्टर को दिखाने के लिए कह चुकी हूँ. अब क्या बताऊँ, रात में पल भर भी नींद नहीं आती और खाँसते-खाँसते बिस्तर भी गीला हो जाता है.” 
शर्म को ताक पर रखकर रुक्मिणी देवी ने उम्मीद भरी निगाहों से बेटे की ओर देखा.

“तो माँ,  अब तुम मुन्ने को गोद में मत लिया करो, इसके लिए मैं आज ही आया की व्यवस्था करता हूँ.” कहते हुए विनय ने बड़ी बेशर्मी के साथ मुन्ने को माँ की गोद से खींच लिया.



-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए

आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

-कल्पना रामानी

मेरी मित्र-मंडलियाँ

कथा-सम्मान

कथा-सम्मान
कहानी प्रधान पत्रिका कथाबिम्ब के इस अंक में प्रकाशित मेरी कहानी "कसाईखाना" को कमलेश्वर स्मृति कथा पुरस्कार से सम्मानित किया गया.चित्र पर क्लिक करके आप यह अंक पढ़ सकते हैं

कथाबिम्ब का जनवरी-मार्च अंक(पुरस्कार का विवरण)

कथाबिम्ब का जनवरी-मार्च अंक(पुरस्कार का विवरण)
इस अंक में पृष्ठ ५६ पर कमलेश्वर कथा सम्मान २०१६(मेरी कहानी कसाईखाना) का विवरण दिया हुआ है. चित्र पर क्लिक कीजिये