रचना चोरों की शामत

Thursday, 16 October 2014

तुलसी का चौंरा


वो लगातार पाँच दिनों से शोभना के व्यवहार पर गौर कर रहा था। उससे हर पल बतियाने वाली, आते जाते निहारने, नज़रों से दुलराने वाली, उससे बात किए बिना बेचैनी से दिन बिताने वाली शोभना कैसे इतनी बदल गई है, यह उसकी समझ से परे था। प्रतिदिन सोचता शायद अधिक व्यस्त होगी, पर नहीं, व्यस्त होती तो अपनी सहेलियों से घंटों बातें न करती। शायद कहीं जाने की जल्दी रहती होगी, यह भी नहीं हो सकता! उसे उसने एक बार भी घर से बाहर जाते नहीं देखा। शायद...! वो हर पल उसे निहारता और सोचता कि वो इतनी निष्ठुर क्यों हो गई? इतने दिन से न भोजन दिया है न ही पानी।  उसे पता है कि मैं गूंगा हूँ, बुला नहीं सकता, लँगड़ा हूँ, चल नहीं सकता। आखिर इस तरह कितने दिन जीवित रहूँगा।


   वह सोच ही रहा था कि अचानक देखा शोभना उसकी तरफ आ रही थी। गौर किया तो देखा उसके एक पैर में पट्टी बँधी हुई है, वह दंग रह गया। शोभना को यह क्या हो गया? कब और कैसे हुआ? कई सवाल उसकी आँखों में तैरने लगे। शायद तकलीफ के कारण ही उसने इतने दिन उसके बिना बिता दिये। पर आज?...  अचानक सुगंधित हवा का एक झोंका हवा में फैल गया।  चिड़ियों के चहचहाने की आवाज़ें आने लगीं। आसमान से काले बादल छंट चुके थे और सूर्य की शीतल किरणें जगमगा रही थीं। देखते देखते शोभना ने भरे गले से अपनी आँखों के आँसू पोंछे और उसे प्यार से पानी पिलाते हुए बताने लगी कि किस तरह उस दिन उसके पास आने की जल्दी में अचानक जल का लोटा गिरने से पाँव फिसल गया और वो इतने समय उससे दूर हो गई। वो क्या उसके बिना एक दिन भी रह सकती है? सारी बातें सुनते ही प्रफुल्लित होकर झूमने लगा वो तुलसी का चौंरा”!  

-कल्पना रामानी  

No comments:

पुनः पधारिए

आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

-कल्पना रामानी

मेरी मित्र-मंडलियाँ

कथा-सम्मान

कथा-सम्मान
कहानी प्रधान पत्रिका कथाबिम्ब के इस अंक में प्रकाशित मेरी कहानी "कसाईखाना" को कमलेश्वर स्मृति कथा पुरस्कार से सम्मानित किया गया.चित्र पर क्लिक करके आप यह अंक पढ़ सकते हैं

कथाबिम्ब का जनवरी-मार्च अंक(पुरस्कार का विवरण)

कथाबिम्ब का जनवरी-मार्च अंक(पुरस्कार का विवरण)
इस अंक में पृष्ठ ५६ पर कमलेश्वर कथा सम्मान २०१६(मेरी कहानी कसाईखाना) का विवरण दिया हुआ है. चित्र पर क्लिक कीजिये