रचना चोरों की शामत

Tuesday, 26 April 2016

महिला-मण्डल

महिलाओं के सांकेतिक चित्र के लिए चित्र परिणाम
गरमी के  मौसम में शाम होते ही सोसायटी का मनोरंजन स्थल गुलज़ार होने लगता है। कुछ बाल-बच्चे और युवतियाँ तरण ताल को अपनी क्रीड़ाओं से आल्हादित करते हैं तो कुछ झूलों पर अपना आसन जमाए दिखते हैं।  यहीं कुछ वरिष्ठ महिलाओं का समूह  लॉन की हरी घास पर बैठकर अपने बतरस की बौछारों से वातावरण में रस घोलने का काम करता है। इनमें रमा, उमा, विमला और कांता बड़बोली हैं बाकी सब सुनना अधिक, बोलना कम वाले सिद्धान्त की अनुगामी।
आज की चर्चा का विषय कुछ विशेष था, उसी सिलसिले में सबके चेहरों पर उत्साह की झलक स्पष्ट दृष्टिगोचर हो रही थी।

रमा-अब कुछ काम की बात हो जाए कांता, कल प्रमिला के यहाँ चलना है न, ड्रेस कोड तय कर दोकहते हुए रमा ने बातचीत का रुख मोड़ दिया।
उमा-हाँ हाँ, हमें इसी दिन का तो बेसब्री से इंतज़ार होता है, इलायची वाली सुगंधित चाय के साथ प्रमिला के हाथ की चटपटी पकोड़ियाँ...आहा! अभी से मुँह में पानी आ रहा है। 

विमला-हाँ यार, यह तो है लेकिन साथ में जो नीरस कविताएँ वे परोसती है, उनको झेलना भारी पड़ जाता है।

नीता- सच कहा विमलामुझे तो कवि और कविता के नाम से ही चिढ़ है, लेकिन मुफ्त का लज़ीज़ माल मिले तो  कुछ देर यों ही वाह-वाह करने और ताली बजा देने में हर्ज ही क्या है?
विमला- लेकिन प्रमिला का मन एक-आध कविता से कहाँ भरता है, वो तो वाहवाही सुनकर और भी जोश से इस तरह शुरू हो जाती है, कि पीछा छुड़ाना ही मुश्किल हो जाता है।
नीता- हाहाहा... वो समझती है, हम उसकी कलम के कमाल पर फिदा हैं, यही नहीं कविता पाठ से थक जाती है तो पत्र-पत्रिकाओं का ढेर लगा देती है कि देखो यह कविता यहाँ छपी और यह वहाँ...

विमला-  एकदम बोर...उसे क्या पता कि हम केवल समय काटने और दावत उड़ाने के खयाल से ही उसके घर जाती हैं। अब हमसे तो यह सब होता नहीं कि घर में महफिल जमाएँ, नीचे मिल लिए, बातें हो गईं बहुत है। उसे अपनी तारीफ सुननी होती है तो यह सब करती है, खैर...
कांता- हाँ तो सखियों, मन का गुबार शांत हो गया हो तो मेरी बात सुन लो- अगर सबके पास उपलब्ध हो तो कल के लिए हम आसमानी साड़ी-ब्लाउज़ निश्चित कर लेते हैं, मौसम के अनुरूप रहेगाकहते हुए कांता ने पूरे महिला मण्डल पर दृष्टि घुमाई।
सबने सहमति में सिर हिला दिया।

तभी वहाँ एक तरफ बेंच पर बैठी हुई युवती जो उनकी बातें ध्यान से सुन रही थी, बोली-
आंटीजी, आप सब दिखती तो शालीन हैं लेकिन जिसने इतने प्यार से आप लोगों को आमंत्रित किया है  उसकी पीठ पीछे इतनी बुराई... मुझे समझ में नहीं आया।

कांता- तुम कौन हो बेटी, लगता है यहाँ नई आई हो...

युवती- जी हाँ मैं यहाँ नई हूँ, कल ही आई हूँ, मेरी माँ को परसों एक विशेष काव्य समारोह में उनके साहित्यिक योगदान के लिए पुरस्कार सम्मान से विभूषित किया जाना है, मैं उसी नामी कवयित्री, प्रमिला की बेटी हूँ।   

    
-कल्पना रामानी   
 
  

1 comment:

Kavita Rawat said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति

पुनः पधारिए

आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

-कल्पना रामानी

मेरी मित्र-मंडलियाँ

कथा-सम्मान

कथा-सम्मान
कहानी प्रधान पत्रिका कथाबिम्ब के इस अंक में प्रकाशित मेरी कहानी "कसाईखाना" को कमलेश्वर स्मृति कथा पुरस्कार से सम्मानित किया गया.चित्र पर क्लिक करके आप यह अंक पढ़ सकते हैं

कथाबिम्ब का जनवरी-मार्च अंक(पुरस्कार का विवरण)

कथाबिम्ब का जनवरी-मार्च अंक(पुरस्कार का विवरण)
इस अंक में पृष्ठ ५६ पर कमलेश्वर कथा सम्मान २०१६(मेरी कहानी कसाईखाना) का विवरण दिया हुआ है. चित्र पर क्लिक कीजिये