रचना चोरों की शामत

Saturday, 31 December 2016

रिश्तों का बाग

मेला के लिए चित्र परिणाम

“अरे शालू दीदी, आप! विनी की शादी के बाद तो शक्ल ही नहीं दिखाई, माँ आपको बहुत याद करती है” खुशी से भरकर जब अमन ने शालिनी का स्वागत किया तो उसकी आँखें भीगे बिना न रह सकीं।
“शिक्षण कार्य में ही समय कट जाता है अमन, दो दिन विद्यालय की छुट्टी थी और मेले के अंतिम दिन भी, तो सोचा इस बार तुम लोगों के साथ ही मेला घूम लूँगी, सबसे मिलना भी हो जाएगा”। हँसते हुई शालिनी बोली।
शालिनी तलाक़शुदा थी और २० वर्षों से उसी शहर में शिक्षण कार्य करके बेटी की परवरिश में अपना जीवन खपा दिया था। मायके कम ही आती थी, क्योंकि उसका मानना था कि एक ही शहर में होने से मायके से जितनी दूरी बनाकर रखी जाए, उतना ही वहाँ सम्मान बना रहता है।
“बहुत अच्छा किया दीदी, आप माँ से बातें कीजिये, हमें थोड़ा बाजार का काम है, फिर आकर कल का कार्यक्रम बनाते हैं कहते हुए वो तैयार खड़ी अपनी पत्नी और बिटिया को साथ लेकर बाहर निकल गया।
शालिनी काफी देर तक माँ से बातें करती रही फिर कुछ देर टहलने के लिए कहकर बाहर निकली तो सामने ही उसका अपनी पुरानी दो सहेलियों से सामना हो गया। कुछ देर वे उत्साह से एक दूसरे का हालचाल पूछती रहीं फिर उन्होंने बताया कि वे मेला घूमने जा रही हैं और शालिनी को भी साथ चलने के लिए कहा। मेला परिसर घर के पास में ही था, शालिनी ने कल के कार्यक्रम का ज़िक्र करते हुए कहा कि- “मैं केवल झूला खाकर वापस आ जाऊँगी।”
तीनों ने सिकी हुई मूँगफली खरीदी और झूले के लिए टिकट की लाइन में लग गईं। झूले की गति कम हो गई थी और पुराने लोग उतर रहे थे तथा नए बैठते जा रहे थे। तभी सहसा शालिनी की नज़र झूले से उतरते हुए भैया-भाभी और गुड़िया पर पड़ी। देखकर उसका दिमाग सुन्न हो गया, मूँगफली का पैकेट हाथ से छूट गया और वो आगे खड़ी अपनी सहेलियों से पेट दर्द का बहाना बनाकर
सीधी घर पहुँच गई। माँ से मेले की घटना का ज़िक्र करके बोली-
“माँ, मैं तो रिश्तों को सींचने चली आई थी, नहीं जानती थी कि यह बाग अब इस तरह मेरा बंजर हो चुका है। अब कल तक मेरा रुकना व्यर्थ है।” उसने अपना बैग उठाया और पैर पटकती हुई तेज़ी से बाहर निकल गई।
अभी टैक्सी आधी दूर ही पहुँची, कि मोबाइल बज उठा। लेकिन भाभी का नंबर देखकर उसने फोन काट दिया। अगले ही क्षण मैसेज आ गया- “शालू दीदी! हमें माँ ने सब बता दिया है, आप अपने भैया को क्या इतना ही जानती हैं? हम तो वापस ही आ रह थे, देरी हो जाने से खाना भी बाहर से पैक करवा लिया था, लेकिन घर के पास ही गुड़िया ने झूला खाने की ज़िद पकड़ ली। कवरेज एरिया होने से फोन पर संपर्क भी नहीं हो पाया। अब अगर आप तत्काल वापस नहीं आईं तो यहाँ कोई भी न तो भोजन करेगा और न ही कल हम मेला घूमने जाएँगे”।

ओह यह तो मुझसे बहुत बड़ी गलती हो गई...सोचते हुए शालिनी की आँखें खुशी से नम हो गईं, उसे रिश्तों का बाग पुनः लहलहाता हुआ दिखने लगा। उसने ड्राइवर से टैक्सी पलटाकर वापस उसी जगह ले चलने के लिए कहा। ड्राइवर ने क्षण भर उसे अचरज से घूरा और टैक्सी मोड़ दी।        

-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए

आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

-कल्पना रामानी

मेरी मित्र-मंडलियाँ

कथा-सम्मान

कथा-सम्मान
कहानी प्रधान पत्रिका कथाबिम्ब के इस अंक में प्रकाशित मेरी कहानी "कसाईखाना" को कमलेश्वर स्मृति कथा पुरस्कार से सम्मानित किया गया.चित्र पर क्लिक करके आप यह अंक पढ़ सकते हैं

कथाबिम्ब का जनवरी-मार्च अंक(पुरस्कार का विवरण)

कथाबिम्ब का जनवरी-मार्च अंक(पुरस्कार का विवरण)
इस अंक में पृष्ठ ५६ पर कमलेश्वर कथा सम्मान २०१६(मेरी कहानी कसाईखाना) का विवरण दिया हुआ है. चित्र पर क्लिक कीजिये